Spread the love

प्रधानमंत्री को मुख्यमंत्री ने लिखा पत्र, आदिवासी/सरना धर्म कोड पारित करने का किया आग्रह

Spread the love

रांची : प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पुनः मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन ने आदिवासियों के हित में आदिवासी/सरना धर्म कोड पारित करने का आग्रह किया है। मुख्यमंत्री ने पत्र के माध्यम से कहा कि हम आदिवासी समाज के लोग प्राचीन परंपराओं एवं प्रकृति के उपासक हैं तथा पेड़ों, पहाड़ों की पूजा और जंगलों को संरक्षण देने को ही अपना धर्म मानते हैं। वर्ष 2011 की जनगणना के आंकड़ों के अनुसार देश में लगभग 12 करोड़ आदिवासी निवास करते हैं। झारखंड प्रदेश जिसका मैं प्रतिनिधित्व करता हूँ एक आदिवासी बाहुल्य राज्य है, जहाँ इनकी संख्या एक करोड़ से भी अधिक है। झारखंड की एक बड़ी आबादी सरना धर्म को मानने वाली है। इस प्राचीनतम सरना धर्म का जीता-जागता ग्रंथ स्वंय जल, जंगल, जमीन एवं प्रकृति हैं। सरना धर्म की संस्कृति, पूजा पद्धति, आदर्श एवं मान्यताएँ प्रचलित सभी धर्मों से अलग है।

आदिवासियों के पारंपरिक धार्मिक अस्तित्व के रक्षा की चिंता निश्चित तौर पर एक गंभीर सवाल है

मुख्यमंत्री ने कहा झारखंड ही नहीं अपितु पूरे देश का आदिवासी समुदाय पिछले कई वर्षों से अपने धार्मिक अस्तित्व की रक्षा के लिए जनगणना कोड में प्रकृति पूजक आदिवासी / सरना धर्मावलंबियों को शामिल करने की माँग को लेकर संघर्षरत है। प्रकृति पर आधारित आदिवासियों के पारंपरिक धार्मिक अस्तित्व के रक्षा की चिंता निश्चित तौर पर एक गंभीर सवाल है। आज आदिवासी / सरना धर्म कोड की माँग इसलिए उठ रही है ताकि प्रकृति का उपासक यह आदिवासी समुदाय अपनी पहचान के प्रति आश्वस्त हो सके। वर्तमान में जब समान नागरिक संहिता की माँग कतिपय संगठनों द्वारा उठाई जा रही है, तो आदिवासी / सरना समुदाय की इस माँग पर सकारात्मक पहल उनके संरक्षण के लिए नितांत ही आवश्यक है। आप अवगत हैं कि आदिवासी समुदाय में भी कई ऐसे समुह हैं जो विलुप्ति के कगार पर हैं एवं सामाजिक न्याय के सिद्धांत पर इनका संरक्षण नहीं किया गया तो इनकी भाषा, संस्कृति के साथ-साथ इनका अस्तित्व भी समाप्त हो जाएगा।

लगातार घट रही है जनसंख्या

मुख्यमंत्री ने बताया कि विगत आठ दशकों में झारखण्ड के आदिवासियों की जनसंख्या के क्रमिक विशलेषण से ज्ञात होता है कि इनकी जनसंख्या का प्रतिशत झारखण्ड में 38 से घटकर 26 प्रतिशत ही रह गया है। इनकी जनसख्या के प्रतिशत में इस तरह लगातार गिरावट दर्ज की जा रही है जिसके फलस्वरुप संविधान की पाँचवी एवं छठी अनुसूची के अंतर्गत आदिवासी विकास की नीतियों में प्रतिकूल प्रभाव पड़ना स्वाभाविक है।

आदिवासी/सरना कोड अत्यावश्यक

मुख्यमंत्री ने पत्र के माध्यम से कहा कि परिस्थितियों के मद्देनजर हिन्दू मुस्लिम, सिख, इसाई, जैन धर्मावलम्बियों से अलग सरना अथवा प्रकृति पूजक आदिवासियों की पहचान के लिए तथा उनके संवैधानिक अधिकारों के संरक्षण के लिए अलग आदिवासी / सरना कोड अत्यावश्यक है। अगर यह कोड मिल जाता है तो इनकी जनसंख्या का स्पष्ट आकलन हो सकेगा एवं तत्पश्चात हम आदिवासियों की भाषा, संस्कृति, इतिहास का संरक्षण एवं संवर्द्धन हो पाएगा तथा हमारे संवैधानिक अधिकारों की रक्षा की जा सकेगी। यहाँ उल्लेखनीय है कि वर्ष 1951 के जनगणना के कॉलम में इनके लिए अलग कोड की व्यवस्था थी परन्तु कतिपय कारणों से बाद के दशकों में यह व्यवस्था समाप्त कर दी गई। अतः आदिवासी / सरना कोड आदिवासी समुदाय के समुचित विकास के लिए अत्यंत ही आवश्यक एवं इसके मद्देनजर झारखंड विधानसभा से इस निमित्त प्रस्ताव भी पारित कराया गया है, जो वर्तमान में केंद्र सरकार के स्तर पर निर्णय हेतु लंबित है।

पूरे विश्व में प्रकृति प्रेम का संदेश फैलेगा

मुख्यमंत्री ने कहा मुझे अपने आदिवासी होने पर गर्व है और एक आदिवासी मुख्यमंत्री होने के नाते मैं ना सिर्फ झारखंड, बल्कि पूरे देश के आदिवासियों के हित में आपसे विनम्र आग्रह करता हूँ कि हम आदिवासियों की इस आदिवासी / सरना धर्म कोड की चिरप्रतीक्षित माँग पर आप यथाशीघ्र सकारात्मक निर्णय लेने की कृपा करें। आज पूरा विश्व बढ़ते प्रदूषण एवं पर्यावरण की रक्षा को लेकर चिंतित है, वैसे समय में जिस धर्म की आत्मा ही प्रकृति एवं पर्यावरण की रक्षा है उसको मान्यता मिलने से भारत ही नहीं पूरे विश्व में प्रकृति प्रेम का संदेश फैलेगा।

Related Articles

मतदाता सूची में नाम चेक करने के लिए कल से चलाया जाएगा ‘आई एम वेरीफाइड वोटर’ अभियान

झारखंड वार्ता न्यूज रांची:- मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्री के. रवि कुमार के निर्देश पर कल यानि...

आगामी 15 मार्च से प्रारंभ होगा बिशुनपुरा विष्णु मंदिर का 17वाँ वार्षिकोत्सव

अजीत कुमार रंजन बिशुनपुरा(गढ़वा):- बिशुनपुरा प्रखंड मुख्यालय के पोखरा चौक स्थित श्री विष्णु मन्दिर...

सारजमदा सामुदायिक विकास भवन में आजसू के सात पंचायतों के कार्यकर्ताओं की बैठक, पहुंचे पूर्व विधायक रामचंद्र सहिस

कार्यकर्ता पार्टी की रीढ़ होती है :राम चन्द्र सहिस जमशेदपुर :आजसू पार्टी की बैठक जुगसलाई विधानसभा सभा क्षेत्र के अन्तर्गत सारजामदा स्थित सामुदायिक विकास भवन...
- Advertisement -

Latest Articles

मतदाता सूची में नाम चेक करने के लिए कल से चलाया जाएगा ‘आई एम वेरीफाइड वोटर’ अभियान

झारखंड वार्ता न्यूज रांची:- मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्री के. रवि कुमार के निर्देश पर कल यानि...

आगामी 15 मार्च से प्रारंभ होगा बिशुनपुरा विष्णु मंदिर का 17वाँ वार्षिकोत्सव

अजीत कुमार रंजन बिशुनपुरा(गढ़वा):- बिशुनपुरा प्रखंड मुख्यालय के पोखरा चौक स्थित श्री विष्णु मन्दिर...

सारजमदा सामुदायिक विकास भवन में आजसू के सात पंचायतों के कार्यकर्ताओं की बैठक, पहुंचे पूर्व विधायक रामचंद्र सहिस

कार्यकर्ता पार्टी की रीढ़ होती है :राम चन्द्र सहिस जमशेदपुर :आजसू पार्टी की बैठक जुगसलाई विधानसभा सभा क्षेत्र के अन्तर्गत सारजामदा स्थित सामुदायिक विकास भवन...

जमशेदजी नसरवानजी टाटा की जयंती पर भालूबासा हरिजन स्कूल में भालोबासा वॉरियर्स ट्रॉफी, शॉर्ट बाउंड्री टेनिस बॉल क्रिकेट टूर्नामेंट आयोजित

जमशेदपुर : रात्रि दिनांक 2 मार्च 2024 दिन शनिवार से 3 मार्च 2024 दिन रविवार को भालूबासा हरिजन स्कूल मैदान प्रांगण में भालूबासा वॉरियर्स...

सड़क मार्ग से गढ़वा पहुंचे सीएम चंपाई सोरेन, 5 योजनाओं का किया उद्घाटन

झारखंड वार्ता न्यूज गढ़वा:- मुख्यमंत्री चंपाई सोरेन का रविवार को गढ़वा आगमन हुआ। मौसम खराब होने...