झारखंड आंदोलनकारी मोर्चा की बैठक संपन्न

0

सिल्ली:- 20 फरवरी मुरी हिंडालको फैक्ट्री के समीप स्वर्णरेखा नदी तट पर शनिवार को झारखंड आंदोलनकारी मंच के बैनर तले सिल्ली प्रखंड झारखंड आंदोलनकारी की बैठक महेश मंडल की अध्यक्षता में हुई। जिसमें मुख्य अतिथि झारखंड आंदोलनकारी मंच के प्रदेश संयोजक अधिवक्ता मुमताज खान, संयोजक मंडली के शफीक आलम, विमल कच्छप, प्रवीण प्रभाकर, महावीर विश्वकर्मा एवं उमेश यादव विशेष रूप से उपस्थित थे। बैठक में आंदोलनकारियों की विभिन्न समस्याओं पर विस्तार से विचार-विमर्श किया गया। मुमताज खान ने कहा कि बहुत ही दुर्भाग्य की बात है कि झारखंड निर्माण काे 20 वर्ष हो गया है। मगर झारखंड आंदोलनकारी अपना सम्मान पाने के लिए अभी भी आंदोलन कर रहे है। बीजेपी के सरकार में जब अर्जुन मुंडा मुख्यमंत्री थे तो कुछ आंदोलनकारी को चिन्हित किया गया था। आंदोलन से जन्मा झारखंड मुक्ति मोर्चा पार्टी अभी सरकार में है इसके पहले भी सरकार में रह चुकी है। मगर आंदोलनकारी की सुधि लेने के लिए कोई भी पहल नहीं किया गया है परन्तु उम्मीद है कि आंदोलनकारी के पुत्र प्रदेश के मुख्यमंत्री हैं ऐसे में इस बार पहल अवश्य होनी चाहिए । कुछ आंदोलनकारियों को पेंशन दिया जा रहा है परंतु वह बहुत ही कम है।उन्होंने कहा कि अब झारखंड आंदोलनकारियों का उम्र भी ढलते जा रहा है इसे देखते हुए इस बार जोरदार रूप से सरकार को चेतावनी और जगाने के लिए झारखंड आंदोलनकारी मोर्चा के बैनर तले एक विशाल आंदोलन का रूपरेखा तैयार किया जा रहा है। इस मौके पर उपस्थित झारखंड आंदोलनकारियों ने एक स्वर में कहा कि राज्य सरकार को झारखंड आंदोलनकारियों के मामले में स्वत: संज्ञान लेनी चाहिए आज झारखंड आंदोलनकारियों की स्थिति परिस्थिति राज्य सरकार से छुपी नहीं है। राज्य सरकार में बैठे अधिकारी पदाधिकारी राज्य सरकार को झारखंड आंदोलनकारियों के मामले में गुमराह कर रहे हैं, जिसके कारण पूरे राज्य में झारखंड आंदोलनकारियों के बीच आक्रोश पनप रहा है।

प्रवीण प्रभाकर ने कहा कि झारखंड आंदोलनकारियों को सरकार चिन्हित कर पेंशन लागू करे।अलग राज्य बनाने में आंदोलनकारी मोर्चा के बहुत सारे लोग शहीद हो गए हैं,बहुत सारे लोग गोलीकांड में मारे गए परंतु अभी जो भी व्यक्ति जिंदा है उनकी बेबसी देखी नहीं जा सकती। आगे कहा कि अपने हक और अधिकार के लिए पूरे झारखंड के 24 जिलों में आंदोलन का रूपरेखा तैयार किया जा रहा है ताकि झारखंड सरकार झारखंड आंदोलनकारियों का हक व मान सम्मान जल्द से जल्द दे। इस दौरान जले नाथ चौधरी, अशोक चौधरी, श्रीधर महतो, लक्ष्मी महतो, संजय गोंझू, दिनेश महतो, युवराज महतो, जीवराज महतो, विकास महतो, विजय मंडल, हराधन महतो, गोकुल महतो समेत कई आंदोलनकारियों ने बारी-बारी से अपना मंतव्य रखा । वक्ताओं ने कहा कि झारखंड आंदोलनकारियों को सरकार चिन्हित कर पेंशन लागू करें। बैठक के अंत में सभी सदस्यों ने झारखंड आंदोलनकारी शहीदों को एक मिनट का मौन धारण कर श्रद्धांजलि दी। कार्यक्रम का संचालन प्रोफेसर रतन लाल महतो एवं धन्यवाद ज्ञापन प्रोफेसर हरि चरण महतो ने किया। इस मौके पर रंजीत कुमार साहू, संजीव महतो, सुधीर महतो, रामस्वरूप मंडल, पंकज साहू, राजेश विश्वकर्मा, विष्णु दास, शक्ति महतो, अनिल महतो, रंजीत सिंह समेत काफी संख्या में लोग उपस्थित थे।