गलत तरीके से आयी लक्ष्मी उपद्रवकारी होती, लक्ष्मी का सदैव सदुपयोग होना चाहिए : जीयर स्वामी

शेयर करें।

शुभम जायसवाल

श्री बंशीधर नगर (गढ़वा):– घर में उपद्रव करने वाली लक्ष्मी नहीं, बल्कि ऐसी लक्ष्मी चाहिए जो सुख-शांति और संतुष्टि प्रदान करें। लक्ष्मी का सदैव उपयोग करें उपभोग कदापि नहीं। अनिवार्य आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए मितव्ययिता से धन का प्रयोग धन का उपयोग है लेकिन विलासिता के लिए धन का अनुचित अपव्यय धन का उपभोग है। आज की जीवनशैली उपभोक्तावादी हो गई है, जिसके कारण भारतीय सामाजिक संरचना तितर-बितर हो गयी है। श्री जीयर स्वामी ने नैमिषारण्य में सूत–सौनक संवाद की चर्चा करते हुए कहा कि जिस व्यक्ति पर संत कृपा करते हैं, वह संसार का हो जाता है। सूत जी से ऋषियों ने प्रश्न किया कि सभी ग्रंथों के बाद भागवत की क्या आवश्यकता है? इस पर सूत जी ने उदाहरण देते हुए कहा कि दूध से धी बनता है, लेकिन दूध से घी का काम नहीं होता। आम के वृक्ष से फल प्राप्त होता है, लेकिन पेड़ से फल का आनंद प्राप्त नहीं होगा। इसी तरह वेद का सार है भागवत।

भागवत वेद रुपी कल्प वृक्ष का पक्का हुआ फल है। इस पर सभी का अधिकार है। कालान्तर में भगवान द्वारा लक्ष्मी जी को भागवत सुनाया गया। लक्ष्मी जी ने विश्वकसेन को, विश्वकसेन ने ब्रह्माजी, ब्रह्मा जी ने सनकादि ऋषि, सनकादि ऋषियों ने नारद जी, नारद जी ने व्यास जी, व्यास जी ने शुकदेव जी और शुकदेव जी ने सूत जी को सुनाया। बच्चा, बूढ़ा युवा और स्त्री सहित सभी वर्ग और धर्म के लोग इसका रसपान कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि गलत तरीके से आयी लक्ष्मी उपद्रवकारी होती हैं। इन्हें संभालना मुश्किल होता है। लक्ष्मी का सदैव सदुपयोग होना चाहिए। जिस परिवार और समाज में लक्ष्मी का उपभोग होने लगता है। वहाँ एक साथ कई विकार उत्पन्न हो जाते हैं। अंततः वह पतन का कारण बनता है।

स्वामी जी ने कहा कि आषाढ़ पूर्णिमा को व्यास जी का अवतरण हुआ था। इसीलिए इस तिथि को गुरु-पूर्णिमा मनाने की परम्परा है। व्यास जी को नहीं मानने वाले भी गुरु-पूर्णिमा मनाते हैं। स्वामी जी ने कहा कि गुरु सिद्ध होना चाहिए, चमत्कारी नहीं। जो परमात्मा की उपासना और भक्ति की सिद्धि किया हो, वही गुरु है। गुरु का मन स्थिर होना चाहिए, चंचल नहीं। वाणी-संयम भी होनी चाहिए। गुरु समाज का कल्याण करने वाला हो और दिनचर्या में समझौता नहीं करता हो। गुरू भोगी-विलासी नहीं हो। उन्होंने कहा कि गुरु और संत का आचरण आदर्श होना चाहिए। जिनके दर्शन के बाद परमात्मा के प्रति आशक्ति और मन में शांति का एहसास हो, वही गुरु और संत की श्रेणी में है। गुरु दम्भी और इन्द्रियों में भटकाव वाला नहीं होना चाहिए। गुरु सभी स्थान व प्राणियों में परमात्मा की सत्ता स्वीकार करने वाला हो।

Video thumbnail
सासाराम इंटरसिटी एक्सप्रेस के यात्रियों के साथ लातेहार के कुमंडीह स्टेशन पर दर्दनाक हादसा, 4 की मौत
01:16
Video thumbnail
गढ़वा : मेराल प्रखंड में प्रखंड स्तरीय जनता दरबार का किया गया आयोजन
05:48
Video thumbnail
ट्रेन पकड़ने स्टेशन जा रही यात्रियों से भरी टेम्पु की ट्रक से हुई जोरदार टक्कर, 5 लोगों की मौत
01:21
Video thumbnail
आइसक्रीम के अंदर से निकली इंसान की कटी उंगली! युवक पहुंचा थाने
01:51
Video thumbnail
गडकरी को जान से मारने की धमकी के आरोपी ने पाक जिंदाबाद का लगाया नारा,वकीलों ने कर दिया यह हाल
02:46
Video thumbnail
गढ़वा : पुरे शहर में टैंकर से कराया जाएगा पेयजलापूर्ति
03:35
Video thumbnail
कठुआ DIG व SSP की गाड़ी पर अंधाधुंध फायरिंग,ऐसे बाल बाल बचे, दो आतंकी ढेर
02:05
Video thumbnail
एसीबी की बड़ी कार्रवाई, चिनियां ब्लॉक के BPO अनुज कुमार रवि को 5 हजार घूस लेते किया गिरफ्तार
01:27
Video thumbnail
DM-SP ऑफिस में हिंसा..फूंक दी सैकड़ों गाडियां, धारा 144 लागू
02:07
Video thumbnail
PM मोदी शपथ ग्रहण समारोह के दौरान राष्ट्रपति भवन में कैमरे में दिखा जानवर,चर्चे में वीडियो
01:27
spot_img
spot_imgspot_imgspot_imgspot_img

Related Articles

- Advertisement -

Latest Articles